Having real friends is so much better...




Having real friends is so much better than having more friends.

1 comment: Leave Your Comments

  1. https://www.facebook.com/1stories1-1233412326701349

    एक युवक जो कि एक विश्वविद्यालय का विद्यार्थी था, एक दिन शाम के समय एक प्रोफ़ेसर साहब के साथ
    टहलने निकला हुआ था। यह प्रोफ़ेसर साहब सभी विद्यार्थियों के चहेते थे और विद्यार्थी भी उनकी दयालुता के
    कारण उनका बहुत आदर करते थे। टहलते-टहलते वह विद्यार्थी प्रोफ़ेसर साहब के साथ काफ़ी दूर तक निकल
    गया और तभी उन दोनों की दृष्टि एक जोड़ी फटे हुए जूतों पर पड़ी। उन दोनों को वह जूते एक गरीब किसान के
    लगे जो कि पास के ही किसी खेत में मजदूरी कर रहा था और बस आने ही वाला था।

    वह विद्यार्थी प्रोफ़ेसर साहब की ओर मुड़ा और बोला, " आइये इन जूतों को छुपा देते हैं। और फिर हम लोग इन
    झाड़ियों के पीछे छुप जाते हैं। जब वह किसान काम करके वापस आएगा और अपने जूतों को ढूंढेगा तो उसे
    परेशान होकर इधर-उधर ढूंढ़ता देखने पर कितना मज़ा आएगा।"


    इस पर प्रोफेसर साहब बोले,
    - Read more at: http://1stories1.blogspot.in/2015/10/blog-post.html#sthash.UUqDDUkI.dpuf

    ReplyDelete

Share